Feeds:
Posts
Comments

Archive for July, 2014

एक तस्वीर हूँ मैं
रंग जिसमे भरे हैं तुमने
कई हज़ारों हलके और ख्यालों भरे
देख रही हूँ यहाँ से
कब तुम रुक जाओगे एक पल
ठहर जाओ और देखो मुझको
एक नया संसार है तुमने रच दिया
मेरे हर तरफ जन्नत है
खुशियों से है भर दिया तुमने
मेरी साँसों में है ज़िन्दगी
धड़कनो में हैं रंग तुम्हारे
चाँद की हर किरण के साथ है इंतज़ार तुम्हारा
सूरज के साथ बनता है साथ हमारा
मैं देख रही हूँ तुमको
तुम्हारे दिलो दिमाग में है कहीं कहानी हमारी
आज उतार दो हर रंग मुझमे
बाहर उतर आ रही हूँ मैं
कल तक थी एक तस्वीर
अब हूँ बन गयी ज़िन्दगी तुम्हारी|

Advertisements

Read Full Post »

%d bloggers like this: